सफल आदतें

सफल आदतें



सफलता और असफलता एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।
हर सफल व्यक्ति ने असफलता का स्वाद चखा है, जो कभी हारा नहीं वो सफलता के महत्व को नहीं समझ सकता। इसके वास्तविक कारण को जाने बिना हम अपनी असफलताओं के लिए जीवन भर अपने भाग्य को कोसते रहते है। कभी अपने आप से ये सवाल नहीं करते कि आखिर हम असफल क्यों है? कौन सा कार्य हमारे लिए महत्वपूर्ण है और कौन सा महत्वहीन? क्या हम महत्वहीन काम में ज्यादा समय बर्बाद करते हैं?

हमारी वर्तमान परिस्थितियों के लिए सबसे बड़ा कारक हमारी आदतें होती हैं। आदतें ही हमारे भविष्य को तय करती हैं। फिर चाहे वो अच्छी हो या बुरी। अच्छी आदतें हमें सफलता कि ओर ले जाएंगी और बुरी आदतें हमें असफलता के गर्त में धकेल देती हैं। वास्तव में अच्छी आदतें ही सफलता की कुंजी है। और ये आदतें कैसे विकसित की जाए? आज इस विषय पर हम बात करते हैं:-


हमारे शरीर के दो भाग होते हैं एक हार्डवेयर (हमारा शरीर)और दूसरा साफ्टवेयर (हमारा मन)। ये दोनों एक दूसरे पर आश्रित हैं। साफ्टवेयर जैसी कमांड देगा हार्डवेयर उसी दिशा में काम करेगा। जैसा हम मन में सोचेंगे वैसे ही हम बन जाएंगे। जैसी हमारी आदतें होगी वैसा ही परिणाम मिलेगा। हमारे अंदर कुछ आदतें परिवार से और कुछ सामाजिक प्रभाव से आतीं हैं। इन आदतों को खत्म नहीं किया जा सकता केवल इनमें बदलाव किया जा सकता है। बुरी आदतों को अच्छी आदतों में बदलना होगा। हमारी सफलता हमारी सोच का ही परिणाम होती है। आज के विचार हमारे कल का निर्माण करेंगे इसलिए हमें समझदारी से अपने विचारों को चुनना होगा

लिखना सबसे महत्वपूर्ण है, अपनी अच्छी और बुरी आदतों की एक सूची बनाएं और प्रतिदिन ख़ुद का आंकलन करें। ख़ुद से लगातार ये प्रश्न पूछते रहे कि हमारी काबिलियत क्या है, हम किस क्षेत्र में अच्छा कर सकते हैं।


Efforts will release it's rewards only after you refuse to quit.


अगर लेख अच्छा लगे तो comments ज़रूर करें और अपने दोस्तों और भाइयों को शेयर भी करें।🙏

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ