कोशिश करने से पीछे न हटें (don't hesitate to try)

कोशिश करने से पीछे न हटें (don't hesitate to try)



कोशिश करना हमारे हाथ में है। हमें निरंतर बिना रूके बिना थके कोशिश करते रहना होगा। केवल तभी हम अपनी महत्वकांक्षाओं को पूरा कर पाएंगे।


जीतने का जज्बा रखने वाले हारने से नहीं घबराते।

कोशिश करने से पीछे न हटें। क्योंकि दोबारा कोशिश करने से शुरुआत ज़ीरो से नहीं हमारे अनुभव से होगी। जीतने का जज्बा रखने वाले हारने से नहीं घबराते। जिस प्रकार पतझड़ के बिना नए पत्ते नहीं आते उसी तरह हमें भी सफल होने के लिए असफलताओं का सामना करना पड़ता हैं। दूसरों में जितना हम खुशी को तलाशने की कोशिश करते है, उतना ही हमें दुःख, परेशानी का सामना करना पड़ता हैं। ये कथन भी उचित है कि खुशी हमेशा हमारे अंदर ही मौजूद होती है बस उसको एक छोटी सी सफलता का इंतजार होता हैं, और वो बाहर आ जाती हैं। 'तुमसे नहीं होगा', ये तुम्हारे बस की बात नहीं है, तुम अभी बच्चे हो, ऐसा बोलने वाले लोग वास्तव में हमारे सच्चे हितैषी होते है। वो लोग हमारे अंदर बैठे आलसी और नकारात्मक भावनाओं से भरे इंसान को बाहर निकालने में हमारी सहायता करते है ताकि हम आलस्य और निराशाजनक विचारों को त्यागकर सही दिशा में लगातार प्रयास करें और अपना सर्वांगीण विकास कर सकें। कोशिश करने से पीछे न हटें।

 इसे भी 👉 पढ़ें:-

आनंदमय जीवन

सच्ची खुशी

सरल जीवन

सफल आदतें

हमेशा खुश कैसे रहें

डायमंड्स


अपनी क्षमताओं को और ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश करें।


कोशिश करने से पीछे न हटें। खुद को मोटिवेट करें, खुद में बदलाव लाने का प्रयास करें। रात को सोते समय खुद से प्रश्न कीजिए, क्या आज़ हमने कुछ सार्थक कार्य किया या अपनी क्षमताओं को और ज्यादा बेहतर बनाने की कोशिश की। हमसे सबसे बड़ी चूक यही पर होती है कि हम सबसे सवाल पूछते है सिवाय खुद के। खुद से निरंतर सवाल पूछें।  इस एक कार्य को नियमित रूप से करने पर कुछ दिनों में ही आप अपने अंदर जबरदस्त बदलाव महसूस करने लगेंगे। कोशिश करने से पीछे न हटें। क्या पता हमारा अगला प्रयास ही हमें कामयाबी के शिखर तक पहुंचा दें। इसलिए हमें सतत प्रयास करते रहना होगा केवल तभी हम अपने सपनों को साकार कर पाएंगे। हमें क्या चाहिए इस बात को समझना ही वास्तविक ज्ञान माना जाता हैं। क्योंकी जब तक हमें पता ही नहीं होगा कि हम अपने जीवन से चाहते क्या है? तब तक हम अपने जीवन में कुछ भी नहीं कर पाएंगे। हमें हमेशा सकारात्मक विचारों के साथ दूसरों से सीखने की जरूरत है। हर व्यक्ति में कुछ न कुछ ख़ास बात होती हैं। बस हमें उन अच्छी बातों को अपने व्यवहार में शामिल करने की आवश्यकता है। जीवन में कुछ भी हो बस हिम्मत नहीं हारनी है, यही एक सूत्र है जिसके बलबूते दशरथ मांझी से पहाड़ तोड़ कर रास्ता बना दिया, अरूणिमा सिन्हा ने एवरेस्ट फतह कर दिखाया। हमारे अंदर भी वो बात है जिससे हम पूरी दुनिया में अपनी पहचान बना सकते हैं।  कोशिश करने से पीछे न हटें।

इसे भी 👉 पढ़ें :-

समय हाथ से निकल जा रहा है।

प्रार्थना की शक्ति

 उत्साह

जिम्मेदारी

स्वस्थ सोच

अवसर


परिस्थितियां अक्सर हमारी परीक्षा लेती है 


कोशिश करने से पीछे न हटें। परिस्थितियां कैसी भी क्यों न हो उनका प्रभाव हमारे लक्ष्य पर नहीं पड़ना चाहिए। क्योंकी परिस्थितियां अक्सर हमारी परीक्षा लेती है कि हमें जो चाहिए हम उसके काबिल है भी या नहीं। ज्यादातर मामलों में हमसे यही पर चूक हो जाती हैं। सफल होना और प्रसिद्धि पाना आसान भी है और मुश्किल भी। जिनको अपना लक्ष्य हासिल करना है उन्हें किसी की परवाह नहीं होती। उनको तो हर हाल में, हर परिस्थिति में अपने आप को शिखर पर पहुंचना है। उनको अपने लक्ष्य के अलावा कुछ और नहीं दिखाई देता। उनकेे पास और कोई भी विकल्प नहीं होता। ऐसे लोगों के लिए कामयाब होना बहुत आसान होता है। हमें पानी की भांति बनना होगा जो स्वयं अपने रास्ते की खोज करता है। पत्थरों की भांति नहीं जो दूसरों की राह में अड़चनें पैदा करते हैं। हमें अपने विचारों और भावनाओं में बदलाव करने की आवश्यकता है। ऐसा करके ही हम वो सब कुछ हासिल कर पाएंगे जो आज हमें सपने जैसा लगता है। कथन है बुराई करने वाले लोग हमेशा बुराई ही करेंगे आप आप अच्छा काम करें या बुरा, सबसे अच्छा तरीका है शांत रहकर निरंतर प्रयास करते रहे किसी भी प्रकार की निंदा से ना घबराएं। कोशिश करने से पीछे न हटें।

इसे भी पढ़ें:

- असंभव कुछ भी नहीं

👉 ऊर्जा का स्तर

सामर्थ्य

आशावादी दृष्टिकोण

स्वस्थ जीवन जीने के तरीके


दूसरों की गलतियों से सबक लेकर आगे बढ़ें। 


कोशिश करने से पीछे न हटें। दूसरों की गलतियों से सबक लेकर आगे बढ़ना सबसे बेहतरीन तरीकों में से एक है। खुद की गलतियों से तो हर कोई सबक लेता है। लेकिन सफलता का सच्चा हकदार वहीं होता है जो दूसरों के द्वारा की गई गलतियों से सीखकर अपने आप को बेहतर बनाने की कोशिश करता है। अगर हम अपनी गलतियों से सीखकर आगे बढ़ने की सोचते है तो एक जीवन कम पड जाएगा। इसलिए बेहतर यही होगा कि कुछ खुद से सीखें और कुछ दूसरों के अनुभव से सीखें। गलती करना इंसान का स्वभाव है। जिसने कोई गलती नहीं की या तो वो भगवान है या फिर वो व्यक्ति जिसने कभी कोई काम नहीं किया। हमारी कोशिश ये होनी चाहिए कि एक गलती दोबारा न हो। रात को सोने से पहले नियमित रूप से खुद का आंकलन करें। अपनी क्षमताओं को विकसित करने की दिशा में लगातार जुटे रहे। पहले खुद का सर्वांगीण विकास करें,  फिर समाज को और ज्यादा बेहतर बनाने की दिशा में काम करें। कोशिश करने से पीछे न हटें। दूसरों की चिंता न करें, हम जो कुछ भी करते है पहले तो लोग हमें उसके नुकसान बताएंगे फिर हमारा मज़ाक उड़ाएंगे, कुछ दिनों के बाद जब हम बेहतर करने लगते है तो सब हैरान हो जाते है उसके बाद जब हम एक सफल व्यक्ति के रूप में प्रसिद्ध हो जाते है तो वो लोग ही हमारी कापी करने लगते हैं। खुश रहें निश्चिंत रहिए। क्योंकी सफलता बड़ी बेसब्री से हमारा इंतजार कर रही है। कोशिश करने से पीछे न हटें।

इसे भी 👉 पढ़ें :

- हमारा व्यक्तित्व

अपने आत्मविश्वास कौशल पर विश्वास करें 


जिस भी प्रेरणादायक विषय पर आप पढना चाहते है आप हमें बताएं। हम आपकी पसंद के विषय पर जरूर आर्टिकल लिखेंगे। 

टिप्पणियां अवश्य दें।

धन्यवाद 🙏





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ