ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। (Luck will arise only from knowledge.)

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। (Luck will arise only from knowledge.)



ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। ज्ञान ही श्रेष्ठ है। ज्ञान सागर है इसको जितना ज्यादा ग्रहण करोंगे उतना कम लगेगा। ज्ञान ही है जो हमें अपने जीवन के बुनियादी पहलूओं से अवगत करवाता है। ज्ञान का अर्थ न केवल किताबी ज्ञान से है बल्कि व्यवहारिक और बोद्धिक ज्ञान से भी है। ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा।


व्यवहारिक तौर पर समृद्ध बनने की आवश्यकता है।

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। किताबों का ज्ञान अत्यावश्यक है लेकिन व्यवहारिक तौर पर भी हमें अपने आप को बेहतर बनाने की आवश्यकता है। सफलता प्राप्ति के लिए किताबें हमारी जितना मदद करती है उतना शायद ही कोई दूसरी चीज करती होगी। किताबें हमें शिखर तक पहुंचने में सहायता करती हैं परंतु सफलता हासिल करने के पश्चात उसे बनाएं रखना भी उतना ही जरूरी होता है जितना सफल होना। और इसमें सबसे महत्वपूर्ण भूमिका व्यवहार की होती हैं। हम अपने व्यवहार के बल पर ही सफलता का सच्चा सुख प्राप्त कर सकते हैं। इसके साथ ही हमें खुश रहने के लिए छोटे छोटे अवसरों का लाभ उठाना होगा। क्योंकि खुशियों को रुपए पैसे से नहीं खरीदा जा सकता। ये तो बांटने से बढ़ती है यही प्रकृति का भी नियम है। ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा।

इसे भी 👉 पढ़ें:-

आनंदमय जीवन

सच्ची खुशी

सरल जीवन

सफल आदतें

हमेशा खुश कैसे रहें

डायमंड्स


शारीरिक रूप से मजबूत होने की आवश्यकता है।

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। जिस प्रकार सोने को बार बार तपाया जाता है ताकि उसमें कोई अशुद्धि न रहे ठीक उसी तरह हमें भी सफलता प्राप्त करने के लिए पूरी मेहनत करनी पड़ती है, सब चीजों से ध्यान हटा कर पूरा फोकस करना होता है, बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, बहुत बार असफलता का सामना करना पड़ता है। और बार बार असफल होने के बावजूद निरंतर प्रयास करते रहने के पश्चात आखिरकार हमें हमारी मंजिल मिलती है। इतनी मेहनत से मिली वस्तु का लुत्फ उठाने के लिए हमारा स्वस्थ होना अत्यन्त आवश्यक है। हमने सफलता तो हासिल कर ली लेकिन स्वास्थ्य की ओर ध्यान नहीं दिया तो हमारी सफलता का आनन्द कोई उठाएगा। पाज़िटिव एटिट्यूड से ही बहुत लोगों ने अपने निर्धारित लक्ष्यों को हासिल किया है। इसलिए कुछ समय खुद के लिए, अपने स्वास्थ्य के लिए भले ही 15 मिनट लेकिन रोजाना नियम से व्यायाम करें। सोकर तो खोते हैं, जागृत हो कर हम अपनी इच्छाओं को बहुत जल्दी पूरा कर सकते हैं। आलस्य को त्यागने का इससे बेहतर समय नहीं मिलेगा क्योंकि आज जो अवसर उपलब्ध है हो सकता है वो कल हमें ना मिले। सफल और लोकप्रिय व्यक्ति अपने जीवन में शारीरिक स्वास्थ्य के साथ साथ मानसिक रूप से भी खुद को मजबूत बनाएं रखते हैं।  ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा।

इसे भी 👉 पढ़ें :-

समय हाथ से निकल जा रहा है।

प्रार्थना की शक्ति

 उत्साह

जिम्मेदारी

स्वस्थ सोच

अवसर


भाग्य के भरोसे बैठने की अपेक्षा काम को प्राथमिकता देना।

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। भाग्य के भरोसे बैठने से काम नहीं चलने वाला। कब तक इंतजार करेंगे। कर्म तो करना ही होगा और कोई विकल्प नहीं है। साथ ही निरंतर अपनी महत्वकांक्षाओं को याद करते रहना होगा ताकि हमें लगातार प्रेरणा मिलती रहें। हमारी यही कोशिश होनी चाहिए कि हम किसी भी परिस्थिति में हतोत्साहित न हो, निराश न हो। हमें अपनी आदतों में सुधार करना होगा और समय को बर्बाद करने वाले लोगों और कार्यों से दूरी बनाए रखने की आवश्यकता है। ये लोग खुद तो नकारात्मक होते ही है हमें भी सकारात्मक विचारों से दूर रखते हैं। समय का अधिकतम उपयोग कैसे करें अपने आप से पूछना चाहिए। खुद को प्रेरित करने के तरीके ढूंढने होंगे। कैसे हम बचपन में बड़े उत्साह से भरपूर और जोशिले होते थे। हम आज भी उत्साह और जोश से लबरेज रह सकते हैं। अपने आप को इतना व्यस्त रखिए कि दुःखी और परेशान होने का समय ही न मिलें। हमें अच्छे कार्य करने के लिए ये जन्म मिला है। इसे फालतू की बातों और कामों में गंवाना ठीक नहीं होगा। खुश रहने के बहाने ढूंढिए। ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा।

 इसे भी पढ़ें:

- असंभव कुछ भी नहीं

ऊर्जा का स्तर

सामर्थ्य

आशावादी दृष्टिकोण

स्वस्थ जीवन जीने के तरीके

विचारों की शक्ति का सदुपयोग करना ।

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। विचार प्रकृति द्वारा प्रदत्त एक अमूल्य भेंट हैं। हमारी हर एक अवस्था के लिए हमारे विचार ही जिम्मेदार होते हैं। हमें अपने अंदर मौजूद सुंदर और सकारात्मक विचारों को विकसित करना चाहिए। इससे हमें नकारात्मक ऊर्जा से खुद को बचाएं रखने में मदद मिलेगी। हमें बार बार अच्छी बातों, अच्छे विचारों को अपने मन में लाने की आवश्यकता है ताकि हम हर परिस्थिति में सकारात्मक और उर्जा से भरपूर रह सकें। कुछ दिनों के अभ्यास के बाद आप अपने अंदर जबरदस्त बदलाव महसूस करने लगेंगे। और हमारा इस दुनियां को देखने का दृष्टिकोण ही बदल जाएगा। सही दृष्टिकोण से हमें सफलता के साथ आत्म संतुष्टि भी मिलती है। हमें अपने विचारों का निरंतर विश्लेषण करने की आवश्यकता है। इस तरीके से हम अपने अंदर और अपने आस पास के माहौल में एक शानदार परिवर्तन बदलाव देखेंगे। अच्छी बातों को लिखना एक बेहतरीन और सरल विकल्प है। जिसका उपयोग करके हम अपने अंदर आमूलचूल परिवर्तन कर पाएंगे। ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा।

इसे भी 👉 पढ़ें :

- हमारा व्यक्तित्व

अपने आत्मविश्वास कौशल पर विश्वास करें 


सुंदर जीवन के लिए ईश्वर को धन्यवाद देना।


ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा। हमें कितना सुन्दर और सुखमय जीवन मिला है। कभी विचार कीजिए जो कुछ आज हमारे पास है दुनिया में बहुत लोग ऐसे भी है जो उन चीजों का स्वप्न देखते हैं, मतलब कि वे लोग हमारे जैसा जीवन जीना चाहते हैं। और हम है कि जबरदस्ती दुःखी हुए जा रहे हैं। हमारा जीवन बहुत खुबसूरत है इसके लिए हमें ईश्वर के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने की आवश्यकता है। हमारी जरूरत के अनुसार हमें सब कुछ दिया गया है तो क्या इसके लिए हमें ईश्वर के प्रति कृतज्ञता प्रकट नहीं करनी चाहिए?  ईश्वर ने हमें हर तरह से सक्षम बनाया है। प्रकृति ने हमें सब कुछ फ्रि में दिया है तो हमें भी उनका धन्यवाद व्यक्त करने में संकोच नहीं करना चाहिए।  शिकायतें, निंदा जैसे नकारात्मक विचारों और भावनाओं को को दूर रखें आप देखेंगे कि सब कुछ हमारे अनुकूल ही हो रहा है। अच्छा सोचेंगे तो अच्छा ही होगा। समस्याएं इतनी बड़ी नहीं होती हम बार बार उनके विषय में सोचते रहते है, और वो हमारे लिए एक विकट स्थिति बन जाती हैं। खुश रहें और खुशियां बांटें। यही सबसे उत्तम और महत्वपूर्ण रास्ता है बेहतर जीवन जीने का। ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा।


जिस भी प्रेरणादायक विषय पर आप पढना चाहते है आप हमें बताएं। हम आपकी पसंद के विषय पर जरूर आर्टिकल लिखेंगे।

टिप्पणियां अवश्य दें।


धन्यवाद 🙏

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ