सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। (modern approach to success)

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। (modern approach to success)


भाग्य का निर्माण किया जा सकता हैं।

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। कुछ लोगों बहुत भाग्यशाली होते है क्योंकि वो जो कुछ भी काम करते हैं उसमें सफल हो जाते हैं। उनका पारिवारिक जीवन, सामाजिक जीवन और आर्थिक जीवन  समृद्धि से भरपूर और सुखद होता हैं। उनको कभी भी किसी काम में असफलता नहीं मिलती। यहां तक कि उनका स्वास्थ्य भी अच्छा होता है। आमतौर पर समझा जाता है कि यह सब क़िस्मत की बात है। क्या वाकई ये सब भाग्य में लिखा होता हैं? हां यह सच है लेकिन भाग्य का निर्माण किया जा सकता हैं। ईश्वर ने भाग्य को बनाने की आवश्यक शक्तियां हमारे अंदर ही समाहित की है । इसका सीधा सा अर्थ है कि हम अपने भाग्य का निर्माण खुद कर सकते हैं। सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच।


इसे भी 👉 पढ़ें  :- 

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। भाग्य के भरोसे बैठना समझदारी नहीं है इसकी अपेक्षा अपनी क्षमताओं को बेहतर और ज्यादा बेहतर बनाने पर काम करना होगा। सफलता हासिल होगी या नहीं ये हमारा मुद्दा नहीं है। हमें अर्जुन की तरह सिर्फ मछली की आंख को फोकस करना हैं। हजारों उदाहरण है हमारे सामने, दशरथ मांझी को देखिए लगातार 23 साल तक मजबूत इरादों और बुलंद हौसले के साथ पहाड़ को तोड़ कर रास्ता बना दिया। 36 वर्षों की अथक परिश्रम और निरंतर प्रयास से जादव मोलाई पायेंग ने 1360 एकड़ में एक हरे भरे जंगल का निर्माण कर दिया। एडिसन भी 1000 वें प्रयास में सफल हुआ और बल्ब समेत सैकड़ों आविष्कार कर डालें।ज्यादातर मामलों में हम यही पर चूक जाते है। एक या दो बार असफल होने पर प्रयास करना छोड़ देते हैं। और इसी कारण बहुत कम लोग अपने इच्छित लक्ष्यों को हासिल कर पाते हैं। सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच।


इसे भी 👉 पढ़ें:-

हमारे भाव

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा

समय हाथ से निकल जा रहा है।

प्रार्थना की शक्ति

उत्साह

जिम्मेदारी

स्वस्थ सोच

अवसर


दूसरों की अपेक्षा खुद की कमियों पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। जिसको कुछ महान करना होता है वह न तो भाग्य के भरोसे बैठता है और न ही किसी की सहायता का इंतजार करता है वो अपने दम पर ही सब कुछ कर गुजरता है। और एक दिन कुछ नया करके दुनिया को सोचने पर मजबूर कर देता हैं। दूसरों की अपेक्षा खुद की कमियों पर ध्यान देने की आवश्यकता है। अथक प्रयासों, विपरीत परिस्थितियों में निरंतर आगे बढ़ते जाने के परिणामस्वरूप सफलता हासिल होती है। लेकिन हमारा लक्ष्य केवल सफलता प्राप्त करना ही नहीं है, हम सफलता के साथ साथ मानसिक रूप से संतुष्टि भी हासिल करना चाहते हैं। इसका सबसे बेहतरीन और अद्भुत तरीका है प्रतिस्पर्धा किसी और से न करके खुद से करें। दूसरों को हराने या पीछे धकेलने की लालसा में कही न कही हम खुद को ही नुकसान पहुंचाने का काम करते हैं। प्रतिस्पर्धा में हम किसी को हराकर जीत तो हासिल कर लेते है लेकिन मन में संतोष नहीं मिलता। असली मज़ा तो तब है जब हम भी जीत जाएं और कोई हारे भी नहीं। छोटे प्रयासों से हम अपने आप को पूरा विकसित कर सकते हैं। हमारे अंदर हर तरह की संभावना मौजूद हैं। और इन संभावनाओं से ही हम अपनी पहचान बना सकते हैं। हमें आगे बढ कर कोशिश करने की आवश्यकता है। संसार ने आगे बढ़ कर कोशिश करने वालों का हमेशा सम्मान किया है। सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच।


इसे भी 👉 पढ़ें:-

खुद की मदद कैसे करें

जीवन को और भी ज्यादा खुबसूरत बना सकते हैं।

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। सिर्फ रुपए कमाना ही अंतिम लक्ष्य नहीं है, यह प्राकृतिक रूप से अनुचित। रुपए से हम सुविधाएं खरीद सकते है लेकिन संस्कार नहीं। इसका ये अर्थ नही है कि रुपए कमाना ग़लत है। रुपए कमाना बहुत जरूरी है लेकिन संस्कारों को दांव पर लगाकर रुपए कमाना समझदारी नहीं है। हमें अपनी मौलिक और आधारभूत चीजों को विकसित करने की आवश्यकता है। दूसरों का सम्मान करना, जरूरत पड़ने पर क्षमतानुसार मदद करना, प्रकृति संरक्षण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने जैसे बहुत काम है जिनको अपनाकर हम अपने जीवन को और भी ज्यादा खुबसूरत बना सकते हैं। हमें सकारात्मक विचारों से खुद को मोटिवेट करते रहना होगा। साथ ही थोड़ा समय ईश्वर के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने में भी लगाने की आवश्यकता है। ऐसा करके हम अपनी समस्याओं और शिकायतों को दूर करने में खुद की सहायता करते हैं। सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच।


इसे भी 👉 पढ़ें:

खुद पर काम करें

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। विनम्र व्यक्ति अपने जीवन में दूसरों की अपेक्षा ज्यादा बेहतर और अच्छा हासिल करता है। क्योंकी उसको किसी से शिकायत नहीं होती। कोई कितना भी चालाकियां दिखाएं लेकिन विनम्र व्यक्ति हमेशा सबका अच्छा सोचते हैं। इसलिए उसको सबसे ज्यादा और गुणवत्ता से भरपूर मिलता हैं। श्री राम विनम्रता की मिसाल है। हमें उनके इस गुण को अपनाने की आवश्यकता है। हम सब अपने बीते समय का ही तो परिणाम है। हमारे विचार ही हमारे भविष्य को निर्मित करते हैं। जीवन के हर पहलू का ज्ञान है हमें लेकिन जानते हुए भी कोशिश न करना और आलस्य में समय को बर्बाद करना समझदारी नहीं है। कोशिश हमें खुद ही करनी होगी किसी और की कोशिश से  हमारे बदलाव की संभावना बहुत कम होती हैं। नकारात्मक भावनाओं को सकारात्मक भावनाओं के साथ बदलने की आवश्यकता है।  सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच।


ईश्वर का निरंतर धन्यवाद करते रहना होगा।

सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच। जीवन जितना सरल होगा सफलता प्राप्ति में बाधाएं उतनी कम होगी क्योंकि ज्यादा समझदारी कभी कभी हमें पीछे धकेलने का काम करती हैं। मनुष्य के रूप में मिलें जन्म के लिए हमें ईश्वर का निरंतर धन्यवाद करते रहना होगा। क्योंकी हम इंसानों को ही सोचने-समझने की शक्ति वरदान स्वरूप मिली है किसी अन्य जीव को नहीं।  डिग्रेड करने से अच्छा होगा खुद को और ज्यादा बेहतर बनाने पर काम किया जाएं। अच्छी आदतें अपनाकर, अच्छा लिखकर और अच्छा सोचकर हम अपने आप में एक शानदार परिवर्तन कर पाएंगे और समाज को भी महत्वपूर्ण योगदान दे पाएंगे। सफलता प्राप्त करने की आधुनिक सोच।

जिस भी प्रेरणादायक विषय पर आप पढना चाहते है आप हमें बताएं। हम आपकी पसंद के विषय पर जरूर आर्टिकल लिखेंगे।

टिप्पणियां अवश्य दें।
धन्यवाद 🙏




 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ